वैज्ञानिकों ने एक परमाणु के अंदर और भी परमाणु भरकर पदार्थ की एक नयी अवस्था की खोज की|

वैज्ञानिकों खोज की पदार्थ की एक नयी अवस्था

पदार्थ की एक नयी अवस्था की खोज

वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने पदार्थ की एक नयी अवस्था का खोज किया है, जिसका नाम ‘रिडबर्ग पोलरॉन्स’ रखा गया है| जब एक इलेक्ट्रॉन अपने नाभिक को इस दूरी पर चक्कर लगाए की दूसरे परमाणु कक्षा के भीतर बंध जाएं तो इस परिस्थिति में ये सभी परमाणु एक कमजोर बंधन या क्षीण शक्ति का निर्माण करते हैं जिससे ‘रिडबर्ग पोलरॉन्स’ की अवस्था उत्पन्न होती है|

आप इस “विशाल परमाणु” का एक चित्रण ऊपर देख सकते हैं जो परमाणुओं से भरे हुए हैं – नीले रंग इलेक्ट्रॉन है, नाभिक लाल है, और इलेक्ट्रॉन की कक्षा के भीतर अन्य परमाणुओं (हरे) का एक गुच्छा है।

वास्तव में कण भौतिकी थोड़ा अलग है – इलेक्ट्रॉनों का व्यव्हार पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगते चन्द्रमा की तरह नही होता, बल्कि संभाव्यता के बादलों में वे मौजूद रहते हैं।

फिर भी, संभावित स्थितियों के इस बादल में इलेक्ट्रान उस दूरी पर रहते है जहां एक इलेक्ट्रॉन को खोजने की संभावनाएं बहुत कम रहती हैं, और भौतिक विज्ञानी सोचते हैं कि उस बने हुए अंतराल के भीतर एक दूसरे पूरे परमाणु को डालना संभव है|

इसका परीक्षण करने के लिए ही अमेरिका और ऑस्ट्रियाई शोधकर्ताओं की एक टीम ने बोस-आइंस्टीन संघनन के अध्ययन को अपने शोध का आधार बनाकर पदार्थ की एक नयी अवस्था की रचना की।

 

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *