मंगल ग्रह के समान धरती पर भी है एक जगह, जहाँ वैज्ञानिकों को मिले हैं जीवन के साक्ष्य|

मंगल पर जीवन

दक्षिण अमेरिका के पश्चिमी तट के किनारे पर एक विशाल रेगिस्तान है, जो इस तरह से अजीब और अकल्पनीय रूप से सूखा है की यह धरती पर पूर्ण रूप से नरक के सामान हो गया है – लेकिन यह एक और लाल भूमि के समान है जिसको जानने की उत्सुकता वैज्ञानिकों हमेशा से परेशान करती रही है|

चिली का ‘एटाकामा’ रेगिस्तान हमारे पृथ्वी ग्रह पर सबसे सूखे और बंजर जगहों में से एक है, यहाँ की भूमि इतना शुष्क और बंजर है कि ऐसा लगता है की यहाँ कई दशकों या शताब्दियॉं से कभी बारिस की एक बून्द भी नहीं गिरी होगी|

इसकी निर्जरता इसी पृथ्वी पर मंगल ग्रह के भूमि की एक प्रतिरूप सी बनती है| वैज्ञानिकों ने इसी मरुभिमि में कुछ ऐसा खोजा है जो मंगल ग्रह के हमारे समझ को एक नया दृष्टिकोण प्रदान करेगा|

पहली बार, शोधकर्ताओं ने सूक्ष्मजीवों को ‘एटाकामा’ के अविश्वसनीय रूप से शुष्क रेगिस्तान की सतह से नीचे देखा है, यह दर्शाता है कि यह धुँधला, झुलसा हुआ वातावरण वास्तव में सभी बाधाओं के खिलाफ – एक पारिस्थितिकी तंत्र भी है|

मंगल पर जीवन की आशा लिए वैज्ञानिकों के लिए शायद यह अप्रत्याशित खोज कुछ नयी सम्भावनों के द्वार खोल सकती है| ऐसा नहीं है की ‘एटाकामा’ पर सुक्ष जीवों के साक्ष्य पहिली बार मिले हैं पहले भी शोधकर्ताओं को यहाँ पर जीवन के साक्ष्य मिले थें परन्तु वे सभी मृतप्राय जीवन के अवशेष मात्रा थें| परन्तुं इस बार की खोज की मुख्य बात यह है की पहली बार इस निर्जर भूमि पर एक जीवित और सक्रिय सूक्ष्मजीवों के समुदाय के प्रमाण मिले हैं|

 

 

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *